रोचक खबरे

बदनामी बना प्रचार का नया हथकंडा, कॉफी कलंक के बाद अब पॉलिटिक्स में गंदी बात करने की होड़

Tuesday, April 23, 2019 12:11:26 PM
बदनामी बना प्रचार का नया हथकंडा, कॉफी कलंक के बाद अब पॉलिटिक्स में गंदी बात करने की होड़

भले ही भारत में नारी को शक्ति का अवतार माना जाता हो लेकिन इसी देश में महिला को सम्मान की रक्षा के लिए बैंडिट क्वीन बनना पड़ता है। मौजूदा दौर की बात करें तो महिलाओं से ऊल-जुलूल हरकतों के साथ ही अनाप-शनाप कमेंट्स की तो जैसे बाढ़ सी आ गई है। दोयम दर्जे की सोच रखने वाले मर्दों के साथ ही खुद महिलाएं भी नारी गरिमा को खंडित करने में बढ़-चढ़कर पार्टिसिपेट कर रहीं हैं।

 

हीरो होकर खलनायकी

बात करते हैं बीजेपी की महिला नेता की जिन्होंने अपने भद्दे कमेंट से महिलाओं के साथ ही किन्नर वर्ग को ठेस पहुंचाई। दरअसल उत्तर प्रदेश में मुगलसराय से भारतीय जनता पार्टी की विधायक साधना सिंह बसपा सुप्रीमो मायावती के चेहरे-मोहरे का मजाक उड़ाने के चक्कर में सीमा तो लांघ गईं, लेकिन जब सोशल मीडिया में भद्द पिटी तो माफी मांगती नजर आईं।

राजनीति में ग्लैमर!

कांग्रेस में लंबे समय से जिस बात का इंतजार था आखिर उसका भी अंत हो गया। डूबती कांग्रेस को बचाने के लिए प्रियंका गांधी की कांग्रेस में एंट्री हो गई। प्रियंका गांधी वाड्रा को पार्टी में महासचिव और पूर्वी उत्तर प्रदेश प्रभारी बनाने के बाद नई बहस का जन्म हुआ।

बीजेपी नेता व बिहार में पीएचईडी मंत्री विनोद नारायण झा के मुताबिक सुंदर चेहरों से वोट हासिल नहीं होते। विपक्ष के दिग्गज और बुजुर्ग नेताओं द्वारा जारी किए गए विचारों के मुताबिक प्रियंका के ग्लैमर से कांग्रेस को वोट नहीं मिलने वाले।

मतलब देश में अब मुद्दे कम पड़ गए हैं इसलिए महिलाओं के सम्मान को चोट पहुंचाई जा रही है। फिल्मों में ग्लैमर से वोट न मिलते तो राजनीतिक पार्टियां फिल्मी कलाकारों को क्यों अपना उम्मीदवार बनातीं। क्या कहना है आपका समाज में पैर पसारते प्रचार के बदनामी वाले हथकंडे के बारे में? अपने विचार हमारे साथ जरूर साझा करें।

 

133 views
loading...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 × 5 =

To Top