रोचक खबरे

शिव और गणेश को प्रिय है तुलसी की पत्तियां, जानिए फिर भी क्यों नहीं चढ़ाई जाती है?

Thursday, July 5, 2018 02:20:43 PM
शिव और गणेश को प्रिय है तुलसी की पत्तियां, जानिए फिर भी क्यों नहीं चढ़ाई जाती है?

ज्योतिष डेस्क। हिंदू धर्म में तुलसी के पौधे को खास स्थान दिया गया है और यह पेड़ किसी संजीवनी बूटी से कम नहीं होता है। कहा जाता है कि जिस घर में तुलसी का पौधा होता है वहां कोई बीमारी या मृत्यु के देवता नहीं आ सकते हैं। तुलसी का पौधा घरों और मंदिरों में लगाया जाता है, इसकी पत्तियां भगवान विष्णु को अर्पित की जाती हैं। लेकिन गणेश और शिव पूजन में तुलसी की पत्तियों को नहीं रखा जाता है। इसके पीछे कुछ पौराणिक मान्यताऐं जुड़ी हुई हैं।

Image result for shiv

शिव पूजा के दौरान नहीं चढ़ाई जाती है तुलसी की पत्तियां
यह बात हम सभी जातने है कि शिवलिंग पर तुलसी की पत्तीयां नहीं चढ़ाई जाती है पौराणिक मान्यताओं के जालंधर नाम का एक असुर था जिसे अपनी पत्नी की पवित्रता और विष्णु जी के कवच की वजह से अमर होने का वरदान मिला हुआ था। इसका लाभ उठाकर वह दुनिया भर में आतंक मचा रहा था। उसके आतंक को रोकने के लिए भगवान विष्णु और भगवान शिव ने उसे मारने की योजना बनाई। पहले भगवान विष्णु से जालंधर से अपना कवच मांगा और इसके बाद भगवान विष्णु ने उसकी पत्नी की पवित्रता भांग की। जिससे भगवान शिव को जालंधर को मरने का मौका मिल गया। जब वृंदा को अपने पति जालंधर की मृत्यु का पता चला तो उसे बहुत दु:ख हुआ। गुस्से में उसने भगवान शिव को शाप दिया कि उन पर तुलसी की पत्ती कभी नहीं चढ़ाई जाएंगी। यही कारण है कि शिव जी की किसी भी पूजा में तुलसी की पत्ती नहीं चढ़ाई जाती है।

Image result for bhagwan ganesh marriage

भगवान गणेश पूजा में वर्जित है तुलसी की पत्तियां

एक कथा के मुताबिक एक बार तुलसी जंगल में अकेली घूम रही थी जब उन्होंने गणेश जी को देखा जो की ध्यान में बैठे थे। तब तुलसी ने गणेश जी के सामने विवाह का प्रस्ताव रखा परन्तु गणेश जी ने यह कह कर अस्वीकार कर दिया की वो ब्रह्मचारी है जिससे रूठकर तुलसी ने उन्हें दो विवाह का श्राप दे दिया, प्रतिक्रिया स्वरुप गणेश जी ने तुलसी को एक राक्षस से विवाह का श्राप दे दिया। इसलिए गणेश पूजन में भी तुलसी का उपयोग वर्जित है।

नोट: इस ज्योतिष आर्टिकल में ग्रहों के आधार पर राशिफल और आपके जीवन में घटित हो रही घटनाओं में भिन्नता हो सकती है। पूरी जानकारी के लिए कृपया किसी पंडि़त या ज्योतिषी से संपर्क करें।

 

Source: Google

975 views
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

7 + 20 =

To Top