क्राइम न्यूज़

The dead body reached the open secret, the two families left with the carelessness of the hospital

Tuesday, April 23, 2019 11:41:35 AM
The dead body reached the open secret, the two families left with the carelessness of the hospital

जयपुर के नारायणा मल्टीस्पेश्यलिटी हॉस्पिटल की घोर लापरवाही उजागर हुई है। अस्पताल ने पुरुष के शव के साथ महिला का शव भी पुरुष के ही रिश्तेदारों को सौंप दिया। महिला के परिजन सुबह जब शव लेने अस्पताल के मुर्दाघर पहुंचे तो अस्पताल प्रशासन ने अपनी गलती मानने के बजाय कानूनी कार्रवाई पूरी होने तक शव देने से इनकार कर दिया। मृतका के परिजनों को शक होने पर जब उन्होंने पुलिस को सूचना दी तो मामले की सच्चाई सामने आ गई।

नारायणा हॉस्पिटल में अजमेर की 62 वर्षीय पार्वती देवी और सीकर के वी.के.पोरवाल (45) की रविवार रात को मौत हुई थी। सीकर निवासी वी.के.पोरवाल के परिजन रात को शव लेकर चले गए। इसके बाद उनके रिश्तेदार अस्पताल पहुंचे तो अस्पताल प्रशासन ने उन्हें पार्वती देवी का शव सौंप दिया। पोरवाल के घर दो शव पहुंचने पर उन्होंने अस्पताल को इसकी सूचना दी। इसके बावजूद अस्पताल प्रशासन अपनी गलती छुपाता रहा। मामले का खुलासा सुबह उस समय हुआ, जब पार्वती देवी के भाई ब्यावर निवासी हरीश कुमार शव लेने पहुंचे। अस्पताल प्रशासन किसी तरह उन्हें टालता रहा, जब परिजनों को शक हुआ तो उन्होंने प्रताप नगर पुलिस को इसकी सूचना दे दी।

पुलिस के दखल के बाद अब अस्पताल प्रशासन ने सीकर भेजकर दूसरा शव मंगाया है। हरीश कुमार ने बताया कि अस्पताल प्रशासन की गलती के कारण उनकी बहन का शव समय पर नहीं पहुंच सका। अस्पताल प्रशासन उन्हें गुमराह करता रहा। हरीश ने आरोप लगाया कि पार्वती को हार्ट की प्रोब्लम थी। उन्हें 26 फरवरी को पेस मेकर और स्टेंट लगाया था, इसके बावजूद उनकी 12 अप्रैल को तबीयत खराब हो गई। इस पर उन्हें दोबारा भर्ती कराया था।

प्रताप नगर थाने के प्रभारी संजय शर्मा ने कहा, नारायणा हॉस्पिटल प्रशासन के शव न देने की शिकायत मिली थी। अस्पताल प्रशासन ने मानवीय भूल के चलते दोनों शव एक ही परिवार को सौंप दिए थे। अब अस्पताल प्रशासन शव मंगाकर दूसरे परिवार को दे रहा है।

210 views
loading...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 × 3 =

To Top