क्राइम न्यूज़

चंद्रयान-2: इसरो वैज्ञानिकों में खुशी की लहर, विक्रम लैंडर ने रिसीव कर लिया सिग्नल

चंद्रयान-2: इसरो वैज्ञानिकों में खुशी की लहर, विक्रम लैंडर ने रिसीव कर लिया सिग्नल

विक्रम को जगाने के लिए, ‘नासा’ ने इसरो की मदद की। विश्वस्त सूत्रों ने कहा है कि नासा ने अपने डीप स्पेस नेटवर्क के जरिए विक्रम से संपर्क करने की कोशिश की है। इस प्रयास में सकारात्मकता देखी जाती है। नासा ग्राउंड स्टेशन से रेडियो आवृत्ति के माध्यम से विक्रम को संदेश भेजा गया था जिसे रिसीव करते ही विक्रम ने अपनी प्रतिक्रिया भेजी है लेकिन यह प्रतिक्रिया काफी हल्की थी। वैज्ञानिकों का कहना है कि विक्रम की प्रतिक्रिया ने मिशन की उम्मीदों को जीवित कर दिया है।

दरअसल, सूरज की रोशनी उस दिन आती है, जब विक्रम ने एक हार्ड लैंडिंग की। ये 14 दिन 20-21 सितंबर को समाप्त हो रहे हैं। उसके बाद, विक्रम की बैटरी और सौर पैनल को गहरे अंधेरे और अवसाद के दौरान सक्रिय नहीं किया जा सकता है। इसलिए, 20 सितंबर से पहले, विक्रम को जगाने और उसमें से ज्ञान लाने और अनुसंधान कार्य को आगे बढ़ाने के प्रयास किए जा रहे हैं।

loading...

इसरो के एक अन्य सूत्र ने कहा कि नासा कैलिफोर्निया, मैड्रिड और कैनबरा में अपने ग्राउंड स्टेशनों से रेडियो फ़्रीक्वेंसी बीम कर रहा है और उम्मीद है कि विक्रम का जल्द ही किसी एक स्टेशन से संपर्क हो जाएगा। विक्रम से संपर्क करने की इसरो की उम्मीदें इसलिए भी बढ़ गई हैं क्योंकि नासा के खगोलशास्त्री स्कॉट टिली ने एक ट्वीट में कहा कि विक्रम को भेजे गए संदेश की हमें प्रतिक्रिया मिली है। ट्वीट से इसरो के वैज्ञानिकों में खुशी की लहर दौड़ गई।

16,695 views
loading...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventeen − seventeen =

To Top