ज्योतिष & धर्म

भगवान गणेश ने चूहे को क्यों बनाया अपना वाहन, जानिए पौराणिक कथा

Wednesday, April 11, 2018 03:00:55 PM
भगवान गणेश ने चूहे को क्यों बनाया अपना वाहन, जानिए पौराणिक कथा

ज्योतिष डेस्क। शास्त्रों में चूहे को भगवान गणेश का वाहन कहा गया है और गणेश जी हमेशा चूहे पर विराजमान रहते है। परन्तु क्या आप जानते है कि किस तरह भगवान गणेश ने चूहे को अपना वाहन बनाया और अपने वाहन के रूप में चूहे का चयन क्यों किया। समुद्रशास्त्रों के अनुसार एक कथा में इसका उल्लेख मिलता है। आइए आपको बताते हैं इस कथा के बारे में विस्तार से…

Image result for ganesh ji chuha

चूहा कैसे बना गणेश जी का वाहन

द्वापर युग में महर्षि पराशर अपने आश्रम में ध्यान मग्न थे तभी वहां एक बहुत ही बलशाली मूषक आया और महर्षि पराशर के ध्यान में विध्न डालने लगा। उनके आश्रम में रखे वस्त्र, अनाज और ग्रंथों को कुतर डाला। महर्षि ने उस मूषक को रोकने की बहुत कोशिश की परन्तु वह पकड़ में नहीं आया।

Related image

जब वह थक गए तो अपने इस विघ्न से उभरने के लिए उन्होंने विघ्नहर्ता भगवान गणेश जी की शरण ली, उन्होंने विधि-विधान से भगवान गणेश का पूजन किया। उनकी पूजा से गणेश जी खुश हुए और उपद्रवी मूषक को पकडऩे के लिए अपना पाश फेंका। पाश को अपनी तरफ बढ़ते देख मूषक भागता हुआ पाताल लोक पहुंच गया। पाश ने उसका पीछा नहीं छोड़ा और उसे बांधकर गणेश जी के सामने उपस्थित किया।

Image result for ganesh ji chuha

गणेश जी की चमत्कारी शक्ति को देखकर मूषक उनका स्तुतिपाठ करने लगा। गणेश जी उसके स्तुतिपाठ से प्रसन्न हुए और बोले, तुमने महर्षि पराशर के आश्रम में इतनी उथल- पुथल क्यों मचाई यही नहीं उनका ध्यान भी भंग किया। मूषक कुछ नहीं बोला चुपचाप खड़ा रहा। गणेश जी आगे बोले, अब तुम मेरे आश्रय में हो इसलिए जो चाहो मुझ से मांग लो।

Image result for ganesh ji chuha

भगवान गणेश की यह बात सुनकर मूषक को घमंड हो गया और वह बड़े गर्व से भगवान गणेश से बोला, मुझे आपसे कुछ नहीं चाहिए। हां, यदि आप चाहें तो मुझसे कुछ मांग सकते हैं। गणेश जी उसकी बात सुनकर मुस्कुराते हुए बोले, ठीक है मूषक अगर तुम मुझे कुछ देना चाहते हो तो तुम मेरे वाहन बन जाओ।

Related image

उसी पल से मूषक गणेश जी का वाहन बन गया परन्तु जैसे ही गणेश जी ने मूषक पर पहली सवारी की तो गणेश जी की भारी भरकम देह से वह दबने लगा। मूषक का सारा घमंड चूर-चूर हो गया और वह भगवान गणेश से बोला, गणपति बप्पा मौरिया! मुझे माफ कर दे, आपके वजन से मैं दब रहा हूं। अपने वाहन की प्रार्थना पर गणेश जी ने अपना भार कम कर लिया। इस घटना के बाद से ही मूषक भगवान गणेश का वाहन बनकर उनकी सेवा करने में लग गया।

Source: Google

1,925 views
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four + 4 =

To Top