ज्योतिष & धर्म

जानिए इंद्र ने क्यों दिया इस वृक्ष को फल नहीं लगने का श्राप

Wednesday, November 15, 2017 12:51:50 PM
जानिए इंद्र ने क्यों दिया इस वृक्ष को फल नहीं लगने का श्राप

ज्योतिष डेस्क। पारिजात वृक्ष को औषधियों का खजाना कहा जाता है, पारिजात वृक्ष से जन आस्था जुडी हुई है। इस वृक्ष की खासियत यह है कि इसमें कलम नहीं लगती है, इसी वजह से यह वृक्ष दुर्लभ वृक्ष की श्रेणी में आता है। हिन्दू धर्म ग्रंथो में पारिजात के बारे में कई किवदंतिया प्रचलित हैं। पारिजात वृक्ष से जुड़ी पौराणिक कथाएं बहुती ही रोचक हैं आइए जानते हैं इनके बारे में…

 

Image result for पारिजात वृक्ष

 

मान्यताओं के मुताबिक परिजात वृक्ष की उत्पत्ति समुंद्र मंथन से हुई थी। जिसे इन्द्र ने अपनी वाटिका में रोप दिया था। हरिवंश पुराण के मुताबिक पारिजात के अदभुद फूलों को पाकर सत्यभामा ने भगवान कृष्ण से जिद की कि पारिजात वृक्ष को स्वर्ग से लाकर उनकी वाटिका में रोपित किया जाए। श्री कृष्ण ने पारिजात वृक्ष लाने के लिए नारद मुनि को स्वर्ग लोक भेजा परन्तु इन्द्र ने उनके प्रस्ताव को ठुकरा दिया जिस पर कृष्ण ने स्वर्ग लोक पर आक्रमण कर दिया और पारिजात प्राप्त कर लिया। पारिजात छीने जाने से रूष्ट इन्द्र ने इस वृक्ष पर कभी न फल आने का श्राप दिया। पारिजात वृक्ष का उल्लेख भगवत गीता में भी मिलता है।

 

Image result for पारिजात वृक्ष

 

पारिजात वृक्ष का उल्लेख पारिजातहरण नरकवधों नामक अध्याय में भी किया गया है। हरिवंश पुराण में ऐसे ही एक वृक्ष का उल्लेख मिलता है। जिसे छूने मात्र से देव नर्तकी उर्वशी की थकान दूर हो जाती थी। पारिजात वृक्ष कल्प वृक्ष का ही एक प्रकार है। इसका वैज्ञानिक नाम एडेनसोनिया डिजीटाटा है। इसका फूल खूबसूरत सफेद रंग का होता है जो कि सूखने के बाद सुनहरे रंग का हो जाता है। इस फूल में पांच पंखुड़ियां होती हैं। किवदंती के अनुसार इसकी शाखायें सूखती नहीं बल्कि सिकुड़ जाती हैं तथा शुष्क तने में ही समाहित हो जाती हैं।

445 views
loading...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top